View Snaps

News & Events »सीएसआईआर- आईएमएमटी में हिन्‍दी पखवाड़ा – 2019


सीएसआईआर- आईएमएमटी में हिन्‍दी पखवाड़ा – 2019 2nd - 16th June 2019

 

खनिज एवं पदार्थ प्रौद्योगिकी संस्‍थान, भुवनेश्‍वर में हिन्‍दी पखवाड़ा समारोह 2 से 16 सितम्‍बर, 2019 के दौरान बड़ी धूमधाम एवं राष्‍ट्रीय गरिमा के साथ मनाया गया । श्री हेमन्‍त कुमार त्रिपाठी , मुख्य वैज्ञानिक, खनिज संसाधन विभाग ने संयोजक के रूप में इस समारोह का आयोजन कुशलतापूर्वक किया । इस पखवाड़े के दौरान संस्‍थान के कर्मचारियों, शोध छात्रों एवं बच्‍चों के लिए हिन्‍दी में विभिन्‍न प्रतियोगिताएं आयोजित की गईं ।

संस्‍थान के कर्मचारियों के बच्‍चों के लिए उनकी कक्षाओं के आधार पर विभिन्‍न श्रेणियों के अंतर्गत कविता पाठ एवं निबन्‍ध प्रतियोगिता आयोजित की गई । सभी प्रतियोगिताओं को भाषा के आधार पर दो समूहों में आयोजित किया गया – हिन्‍दी भाषी एवं हिन्‍दीतर भाषी । विभिन्‍न प्रतियोगिताओं में 40 बच्‍चों ने बड़े उत्‍साह के साथ भाग लिया । कर्मचारियों के लिए निबंध , टिप्‍पण-प्रारूपण, वाद-विवाद और हिन्‍दी कविता पाठ/ प्रहसन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया । कर्मचारियों के लिए निबन्‍ध का विषय “विकासशील भारत की समस्‍याएं एवं उनके वैज्ञानिक समाधान“ था । कर्मचारी वर्ग की प्रतियोगिताओं में विगत वर्षों में नवनियुक्‍त वैज्ञानिक एवं प्रशासनिक कर्मचारियों ने बढ़ चढ़ कर हिस्‍सा लिया जो कि संस्‍थान में राजभाषा की प्रगति का संतोषजनक सूचक है । कर्मचारी वर्ग में हिन्‍दी भाषी समूह में डॉ आशीष कुमार यादव, डॉ यतेन्‍द्र सिंह चौधरी, तोषित पाठक एवं मुकेश कुमार ने एवं हिन्‍दीतर भाषी समूह में श्री सी एस पट्टनायक, श्री बिरंची नारायण परिड़ा एवं श्री देवदत्‍त साहू ने आयोजित प्रतियोगिताओं में बेहतर प्रदर्शन किया ।

हिन्‍दी पखवाड़ा समापन एवं पुरस्‍कार वितरण समारोह 16 सितम्‍बर, 2019 को अपराह्न 4.00 बजे संस्‍थान के सभा कक्ष में आयोजित किया गया । प्रो. शुद्धसत्‍व बसु , निदेशक ने इस समारोह की अध्‍यक्षता की । निदेशक महोदय ने मुख्‍य अतिथि डॉ ओम प्रकाश वर्मा, वैज्ञानिक एवं हिन्‍दी अधिकारी का हार्दिक स्‍वागत किया और संस्‍थान में राजभाषा संबंधी विभिन्‍न गतिविधियों का उल्‍लेख किया । इस अवसर पर सभागार में उपस्थित श्रोताओं को निदेशक ने हिन्‍दी से संबंधित विभिन्‍न पहलुओं से अवगत कराया तथा कहा कि हमारे संस्‍थान में हिन्‍दी में कार्य करने के लिए सभी आधारभूत सुविधाएं उपलब्‍ध हैं । उन्‍होंने कहा कि कर्मचारियों में हिन्‍दी के प्रति रुझान को बढ़ाने के लिए समय समय पर हिन्‍दी संगोष्‍टी एवं कार्यशालाओं का आयोजन किया जाता है । उन्‍होंने सभी कर्मचारियों को हिन्‍दी में अधिकाधिक कार्य करने के लिए प्रेरित किया । अध्‍यक्ष महोदय ने यह कहा कि राजभाषा नीति का अनुपालन करना हम सब का नैतिक एवं संवै‍धानिक जिम्‍मेदारी भी है ।

तदुपरांत संस्‍थान की राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति के सचिव श्री टी वेंकट राजु, हिन्‍दी अधिकारी ने वर्ष 2018 -19 की राजभाषा हिन्‍दी की वार्षिक प्रगति रिपोर्ट प्रस्‍तुत की । उन्‍होंने कहा कि संस्‍थान में प्राय: सभी कर्मचारियों ने हिन्‍दी का कार्यसाधक ज्ञान प्राप्‍त कर लिया है तथा हिन्‍दी में काम करने के लिए सभी आधारभूत सुविधाएं यथा द्विभाषी प्रपत्र, हिन्‍दी अग्रेषण पत्र तथा कम्‍प्‍यूटरों पर हिन्‍दी सॉफ्टवेअर की उपलब्‍धता के कारण हिन्दी में किए जा रहे कार्यों में वृद्धि हुई है । प्रशासनिक कार्यों के अतिरिक्‍त वैज्ञानिक एवं तकनीकी कार्यों में भी हिन्‍दी का प्रयोग बढ़ रहा है । परियोजना रिपोर्ट के प्राक्‍कथन को अंग्रेजी के साथ साथ हिन्‍दी में भी प्रेषित किए जा रहे हैं । संस्‍थान की वेबसाइट द्वि‍भाषिक रूप में उपलब्‍ध है । संस्‍थान के कई अनुभागों में कर्मचारीगण हिन्‍दी में मूल रूप से कार्य कर रहे हैं। संस्‍थान में किए जा रहे अनुसंधान एवं विकास कार्यों को राजभाषा हिन्‍दी में जन मानस तक पहुँचाने के उद्देश्‍य से पिछले ग्‍यारह वर्षों से राजभाषा प्रकोष्‍ठ द्वारा गृह पत्रिका 'अभिव्‍यक्ति' का प्रकाशन किया जा रहा है और अब तक इसके 21 अंक प्रकाशित हो चुके हैं । सदस्‍य सचिव ने सभा को यह भी सूचित किया कि पिछले 5 वर्षों से हम नियमित रूप से भुवनेश्‍वर में स्थित 7 शोध संस्‍थानों और शिक्षण संस्‍थानों के साथ मिलकर संयुक्‍त राजभाषा वैज्ञानिक संगोष्‍ठी आयोजित करते आ रहे हैं और इस वर्ष संगोष्‍ठी का शीर्षक था ”विज्ञान संचार में राजभाषा हिन्‍दी की भूमिका ”।

प्रगति विवरण की प्रस्‍तुति के उपरांत हिन्‍दी पखवाड़ा समापन एवं पुरस्‍कार वितरण समारोह के मुख्‍य अतिथि डॉ ओम प्रकाश वर्मा, वैज्ञानिक, भा कृ अनु प – भारतीय जल प्रबंधन संस्‍थान, भुवनेश्‍वर ने अपना विचार प्रस्‍तुत किया । उन्‍होंने राजभाषा हिन्‍दी की विभिन्‍न भाषागत विशेषताओं का उल्‍लेख करते हुए इसकी महत्‍ता पर प्रकाश डाला । उन्‍होंने कहा कि किसी भी देश के विकास के लिए भाषा का महत्‍वपूर्ण योगदान होता है क्‍योंकि मौलिक चिंतन अधिकतर मातृभाषा में ही किया जा सकता है । राजभाषा के साथ साथ अन्‍य प्रान्‍तीय भाषाओं का विकास करना भी हमारा दायित्‍व है । उन्‍होंने कई उदाहरण प्रस्‍तुत करते हुए कहा कि हम हिन्‍दी में आसानी से अपने विचारों का आदान – प्रदान कर सकते हैं । उन्‍होंने यह भी कहा कि यदि शुरू में थोड़ी बहुत ग‍लतियॉं होती है तो हमें उससे परेशान होने की आवश्‍यकता नहीं है प्रयोग करते करते हम अपनी भाषा का सुधार कर सकते हैं और इस तरह हम अपना सारा कार्यालयीन कार्य को हिन्‍दी में करने में सक्षम हो जाएंगे । अंत में उन्‍होंने यह कहा कि हमें हिन्‍दी का प्रयोग केवल एक दिन (हिन्‍दी दिवस) में न करके यदि वर्ष भर इसका प्रयोग करेंगे तो निश्चित रूप से हम भारत सरकार द्वारा निधार्रित लक्ष्‍यों को आसानी से प्राप्‍त कर सकेंगे ।

मुख्‍य अतिथि डॉ ओम प्रकाश वर्मा एवं प्रो. शुद्धसत्‍व बसु, निदेशक के कर-कमलों से पुरस्‍कार विजेताओं को प्रमाणपत्र एवं नगद पुरस्‍कार प्रदान किए गए । निदेशक महोदय ने संस्‍थान की ओर से मुख्‍य अतिथि को स्‍मृति चिह्न भेंट किया । श्री हेमन्‍त कुमार त्रिपाठी , मुख्‍य वैज्ञानिक एवं संयोजक ने सुचारू रूप से इस पखवाड़ा का आयोजन किया और उनके द्वारा धन्‍यवाद ज्ञापन के साथ समारोह सहर्ष सम्‍पन्‍न हुआ ।